शीघ्रपतन का 7 दिन में इलाज 10 रामबाण उपाय (आयुर्वेदिक)

Sending
User Review
4.25 (4 votes)
सबसे तेज असरकारी शीघ्रपतन का इलाज के उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे के बारे में जानिये. Shighrapatan जिसे अंग्रेजी में premature ejaculation और early discharge भी कहते है. यह आज के व्यक्तियों के लिए आम समस्या बनती जा रही है. WHO के मुताबिक दुनिया के 30 से 40% लोग इस समस्या से परेशान है.
भारत में और अमेरिका में यह समस्या ज्यादातर युवाओं में पाई जा रही है. आज के आधुनिक खान पान और गलत आदतों के कारण यह समस्या आती है. युवा-अवस्था में हस्थमैथुन ज्यादा करना, अश्लील चीजे देखना, मानसिक तनाव आदि के वजह से सम्भोग यानी सेक्स करने के शुरुआत में ही वीर्य निकल जाता है. जब व्यक्ति का वीर्य एक मिनट से पहले ही निकल जाए तो इसे शीघ्रपतन कहाँ जाता है.
हम आपको बताएंगे ऐसे आयुर्वेदिक उपचार के बारे में जिससे आप घर पर ही एक से दो सप्ताह के भीतर ही शीघ्रपतन से छुटकारा पा लेंगे तो आइये जानते है shighrapatan ke upay or ilaj bataye in Hindi (premature ejaculation) के बारे में.
अगर आपकी शीघ्रपतन की समस्या पुरानी है, लम्बे समय से चल रही है तो इसे ठीक होने में थोड़ा समय जरूर लगेगा, लेकिन अगर आपको यह समस्या अभी-अभी हुई है तो जल्द ही एक से दो सप्ताह के भीतर आप ठीक हो जायेंगे.
आइये जानते है शीघ्रपतन रोकने के आयुर्वेदिक इलाज के बारे में. इन आयुर्वेदिक उपायों को अपनाकर आप बड़ी जल्दी इस समस्या से छुटकारा पा लेंगे. बस आप रोजाना नियम से इनका सेवन करे.
शीघ्रपतन का इलाज, शीघ्रपतन के उपाय

Shighrapatan ka ilaj in Hindi

शीघ्रपतन का इलाज के उपाय

#1.

100 ग्राम अश्वगंधा, 100 ग्राम बिदारी कंद, 100 ग्राम असगंध इन तीनो को लेकर बारीक पीसकर चूर्ण बना लें और एक कांच की डिब्बी में रख लें. अब एक चम्मच सुबह और शाम को दूध के साथ इस चूर्ण को लें. दूध गुनगुना होना चाहिए और एक चम्मच से ज्यादा यह चूर्ण न लें. आप बताई गई इन चीजों को ऑनलाइन या जड़ी बूटी की दुकान से खरीद सकते है. यह देसी इलाज (desi ilaj) है 7 से 10 में सब ठीक कर देगा.

अगर आपको शीघ्रपतन के दौरान सेक्स करना है तो आप सेक्स करने से एक दो घंटे पहले हस्थमैथुन कर लें. इससे जब आप सेक्स करेंगे तो पहली बार के मुकाबले में देर से आपका वीर्य निकलेगा. जिससे आप थोड़े ज्यादा देर तक सम्भोग कर सकेंगे.

#2.

200 ग्राम काले तिल, 200 ग्राम दालचीनी, 200 ग्राम मिश्री अब इन तीनो को अच्छे से बारीक पीसकर पाउडर जैसा बना कर लें. मिक्सर या इमाम दस्ता में पीस ले. फिर रोजाना सुबह और शाम को खाना खाने के आधे एक घंटे बाद एक चम्मच की मात्रा में इस चूर्ण को दूध के साथ लेकर खाये तो आपको जल्द से जल्द आराम मिलेगा. यह शीघ्रपतन का उपचार करने में रामबाण होता है.

यहाँ बताई गई कोई वस्तु आपको अगर आपके क्षेत्र में न मिले तो आप उन्हें ऑनलाइन खरीद कर भी मंगवा सकते है.

#3.

  • एक किलो इमली के बीज लें और इन्हे तीन दिनों तक पानी में भिगोकर रखे फिर इमली के बीज को पानी में से निकाल ले और इनके छिलके उतार दें. छिलके उतारने पर इन्हे अच्छे से बारीक़ पीस ले. अब जितना यह पिसा हुआ पाउडर है इससे दुगनी मात्रा में पुराना गुड़ लें.
  • अब इमली के बीजों के पाउडर और इस गुड़ दोनों को मिलाकर आटे की तरह गूँथ ले और छोटी-छोटी गोलियां बना लें. अब आप जब भी सेक्स करे तो करीबन दो घंटे पहले एक गिलास दूध के साथ कुछ गोलियों को लेकर सेवन करे.
  • अगर फिर भी जल्दी वीर्य निकले तो अगली बार थोड़ी ज्यादा इमली की गोलियां लें. इस तरह जब आपको अपनी सही खुराक मालूम हो जाए तो फिर हर बार उसी अनुपात में उसका सेवन करे.

#4.

  • अश्वगंधा का चूर्ण, श्वेत मुशली और कलोंजी. अष्वगंधा का चूर्ण और श्वेत मुशली आपको पतंजलि की शॉप से आसानी से मिल जायेंगे और कलोंजी भी बीज और अनाज लेने वालो की शॉप पर मिल जाएगी, कलोंजी लेकर इसे बारीक पीस लें.
  • अब एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण और एक चम्मच श्वेत मुश्ली चूर्ण दोनों को मिला लें और इसमें तीन चिमटी (चुटकी) बारीक की हुई कलोंजी मिला दें. स्वाद के लिए आप थोड़ी मिश्री इसमें पीसकर मिला सकते है.
  • इसे आपको दिन में दो बार यानि सुबह और शाम के समय लेना है. खाना खाने के एक या आधे घंटे बाद बताये गए अनुपात में इसे खा ले और फिर ऊपर से गुनगुना दूध पि ले. यह जो खुराक हमने बताई है यह एक बार की है.
  • यानी एक बार में एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण, एक चम्मच श्वेत चूर्ण और तीन चिमटी कलोंजी लेना है इस मात्रा में हर बार आपको इसका सेवन करना है. तो इससे सात दिन में जड़ से इलाज होता है.

#5.

हल्दी के उपयोग से भी शीघ्रपतन के रोग से जल्दी छुटकारा पाया जा सकता है. इसके लिए आपको रोजाना सुबह खाली पेट एक चम्मच हल्दी को एक गिलास पानी में डालकर पिए. हल्दी में कई तरह के गुण होते है, यह हर तरह के रोगों का इलाज करती है.

हिन्दू धर्म में तो प्रथा भी है की शादी शुदा व्यक्ति रोजाना सोने से पहले हल्दी का दूध पिता है, इसके कई फायदे होते है. लेकिन जिनका वीर्य बहुत जल्दी निकल जाता है उनके लिए यह हल्दी और पानी शीघ्रपतन के उपाय में बहुत ही जबरदस्त है. इस उपाय को करने के बाद आप एक्सरसाइज और योग जरूर करे, ताकि हल्दी शरीर को लग जाए. आपको इसे पचाने के लिए व्यायाम जरूर करना है.

5 आसान देसी इलाज

अब हम आपको कुछ सबसे आसान शीघ्रपतन को रोकने के उपाय के बारे में बताते है. यह थोड़ा समय ले सकते है लेकिन बहुत ही आसान है.

  • शीघ्रपतन का इलाज के लिए दिन में तीन बार प्याज के बीज के पाउडर का सेवन करे. एक तो सुबह खाना खाने के आधे एक घंटे बाद एक ग्लास पानी में एक या आधी चम्मच प्याज का पाउडर मिला कर सेवन करे, फिर दुपहर में भी ऐसा करे और रात में खाना खाने के एक घंटे बाद फिर इसका सेवन करे. प्याज में कामोत्तेजना बढ़ाने के कई गुण होते है.

  • अरंडी के तेल की मालिश भी करे, लिंग की नसों को मजबूत करने के लिए आप अरंडी के तेल से लिंग पर मालिश करे तो यह उनकी कमजोरी को दूर करेंगी. जिसे लिंग की नसे वीर्य को देर तक रोक सकेंगी.

  • लगातार एक महीने तक 10 ग्राम भिंडी के पाउडर को एक गिलास दूध में मिलाकर रात को सोने से पहले पिए. यह बहुत ही असरकारी उपाय है, एक महीना लगता है लेकिन यह काम पूरा करता है. बहुत ही आसान इलाज है. किसी भी देसी इलाज की तरह रामबाण है.

lahsun se lakwa ka ilaj, garlic uses in paralysis in hindi

  • लहसुन की कलियों को खाने से भी लिंग और योन की समस्या ख़त्म होती है. रोजाना तीन चार लहसुन की कली खाये यह बहुत ही प्रसिद्द घरेलु नुस्खे में से एक है.

  • छुहारे भी वीर्य को गाढ़ा करते है और शीघ्रपतन को भी रोकते है. इसके लिए रोजाना सुबह और शाम दूध में थोड़े छुहारे डालकर उबाले अच्छा उबालजाने पर छुहारे को खाये और दूध को भी पिए. यह बहुत ही प्राचीन और रामबाण नुस्खा है.

शीघ्रपतन रोकने के उपाय

हम कुछ उपाय बता रहे है, जिन्हे आप रोजाना करे तो इससे आपके लिंग की नसों की कमजोरी दूर होगी, जिससे वह ज्यादा देर तक वीर्य को रोक सकेगा.

अश्विनी मुद्रा :
इस मुद्रा को आप दिन में 100-200 बार रोजाना करे, यह बहुत आसान है. और जब आप इसे कर रहे होते है तो किसी को पता भी नहीं चलता. यानी जब हम पेशाब करते समय पेशाब को रोक देते है ठीक उसी को अश्विनी मुद्रा कहते है. इस मुद्रा में लिंग की और गुदा की नसों को सिकोड़ना होता है. सिकोड़कर ऊपर की और खींचना होता है. इसमें हाथ लगाने की जरूरत नहीं होती बस जैसे हमे जोर से पेशाब आ रही हो और हम उसे रोकना चाह रहे हो तब हम जिस तरह मांसपेशियों को खिंच कर सिकोड़ लेते है ठीक वैसे ही करना होता है. इस वीर्य रोकने की क्षमता बढ़ेगी (shighrapatan ka ilaj) होगा.
हस्थमैथुन :
एक और तरीका होता है, इसमें आप अपने साथी को बोले या खुद ऐसा करे. पहले हस्थमैथुन करे फिर जब आपको लगे की वीर्य निकलने वाला है तो हस्थमैथुन तुरंत रोक दें और अपने लिंग की नसों को सिकोड़ कर बंद कर ले जैसे आप पेशाब को रोकते समय करते है. ऐसा बार बार करे, हस्थमैथुन करे जैसे ही वीर्य निकलने को हो तुरंत हस्थमैथुन रोक दें इससे आपके लिंग की नसों में वीर्य को देर तक रोके रखने की क्षमता आती है.

इसके अलावा कई लोगों में यह समस्या मानसिक भी पाई गई है और कई लोगों का वीर्य डर के वजह से भी जल्दी निकल जाता है. इसलिए आप इन बातों पर ध्यान दें. सम्भोग करते समय किसी भी प्रकार का भय न रखे और अश्लील चीजे न देखे.

.

तो इस तरह आपने जाना शीघ्रपतन के उपाय (इलाज), shighrapatan ke upay in hindi ayurvedic upchar के बारे में. यहाँ दिए यह सभी नुस्खे बहुत ही असरकारी है और जड़ से इलाज करते है. जो नए रोगी है उनकी समस्या एक दो सप्ताह में ठीक हो जाएगी लेकिन जिनको लम्बे समय से यह समस्या है उनको थोड़ा समय जरूर लगेगा. इसके अलावा तनाव, अश्लीश चीजे, ड्रिंकिंग आदि से बचे और रोजाना व्यायाम भी करे.

Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करें. (जरूर शेयर करे ताकि जिसे इसकी जरूर हो उसको भी फायदा हो सके)
आयुर्वेद एक असरकारी तरीका है, जिससे आप बिना किसी नुकसान के बीमारी को ख़त्म कर सकते है। इसके लिए बस जरुरी है की आप आयुर्वेदिक नुस्खे का सही से उपयोग करे। हम ऐसे ही नुस्खों को लेकर आप तक पहुंचाने का प्रयास करते है - धन्यवाद.